Labels

Monday, December 25, 2017

राज भारती

कमलकांत सीरिज

मनोज पब्लिकेशन से
1 जोरावर
2 खूनी आंखे कातिल हाथ
3 कहर आंखों का 
4  हाइकॉमण्ड
5  नीली आंखों के गुलाम
6 मौत का साज
7  अजनबी लोग अनजाने खतरे
8  नागिन
9 छुछन्दर
10 गोली की रफ्तार
11 होश उड़ा दूँगा
12 काली बिल्ली
13 बवंडर
14 काठ की हांडी
15 नाक का बाल
16 खुदा खैर करे
17 अंधा खलीफा
18 करामाती शै

धीरज पॉकेट बुक्स

19  तिगनी का नाच
20. तेरी गर्दन मेरे हाथ
21 मौत खङी तेरे द्वार
22 . विष कन्या
23 हिसाब बराबर
24  कातिल माने ना
25 काम तमाम
26 सारे दिमाग मेरे शिकार
27 दिल तो कातिल है

ऊपर वो हैं जो सीरियल से है लेकिन इससे पहले के तीन ऐसे हैं जो सीरीज को मकबूलियत से पहले के हैं । लेकिन कमलकांत के शुरुआती नॉवल है जो सपना पॉकेट बुक्स से आये थे
1 चक्रव्यूह
2 चक्रवात
3 त्रिशूल ( ये मनोज से रीप्रिंट हुआ है )

1.
2. काला देवता
3. संगदिल(संग्राम सीरिज)
4. रक्त तिलक
5. हिट लिस्ट
6.
7.
8. शाकाल
9. मौत का खेल
10. काला गुलाब
11. नर्क का बादशाह
12.
13. खून का दरिया
14. बस और नहीं
15. सौगात मौत की
16.
17. मुट्ठी भर बारूद
18. कानून अंधा नहीं
19. मासूम हत्यारा
20. सिरफिरे
21.
22.
23. नवाब मर्डर केस
24. कातिलों का कातिल
25.
26. खून की होली
28. कमाण्डो
29. प्रेत सुंदरी
32. एक कटोरा खून (संग्राम सीरिज)
34. धुएं की दीवार

घेराबंदी (समीर साहनी सीरिज)
गोली तेरे नाम की, शशांशू, काला देवता, प्यासे खून के,
और कत्ल हो गया
उक्त सभी उपन्यास डायमंड पॉकेट बुक्स से प्रकाशित हैं।

अन्य उपन्यास
दहशत,काल चक्र
सर्प सुंदरी(प्रियजीत चौधरी)
सुनहरी नागिन
अंडरवर्ल्ड का खुदा (समीर साहनी सीरिज)+रजत प्रकाशन)
महाक्रोधी
महामंत्र
सच का हत्यारा

कमल कांत सीरिज

1.
2.
3.
4. हाई कमाण्ड
10. गोली कि रफ्तार
11.
12. काली बिल्ली
13. बवण्डर
14. काठ की हांडी
16. खुदा खैर करे
18. करामाती शै
19
20. तेरी गर्दन मेरे हाथ
24. कातिल माने ना

-------
शिंगूर के दरिंदे (धीरज पॉकेट बुक्स)
महामाया
कदमों तले बारूद
अंधा खलीफा
अजनबी लोग,अनजान खतरे
छछूंदर
आया तूफान(तुलसी साहित्य पब्लिकेशन)

सुप्रीमो
अंतरिक्ष का खुदा
पंगे बाज
सीकारी
मृत्युधाम (अग्निपुत्र सीरिज)
मृत्यु रथ (अग्नि पुत्र सीरिज)


-------
हाॅरर सीरिज (रवि पॉकेट बुक्स से)
1. स्वाहा
2. लंगड़ा प्रेत
3. अनहोनी
4. सर्पाहार
6. गुरुमंत्र
7. यूनान की प्रेतरानी
8. मायावी प्रेतात्मा
9. पीरागढी का प्रेत
10. प्रेत की दुल्हन
11. प्यासी आत्मा
12. काला ताबीज
13. जागो शैतान जागो
14. चुड़ैल
15. शावरा
16. पिशाच मठ
17. त्राहिमान
18. बेलगाम अघोरी
19. प्रेतलीला
20. इच्छाधारी नागिन
21. प्रेतजाल
22. प्रेत की प्रेमिका
23. समारी के प्रेत
24. प्रेत चक्र
25. महापिशाच
26. लाल घाट का प्रेत
27. प्रेतों का महाकुंभ
28. सरकटा प्रेत
29. प्रेत को सलाम करो
30. प्रेत रोग
31. अण्डमान के पिशाच
32. हम‌ सब पिशाच हैं।
33.चीखती कब्रें
34. कैदी प्रेतात्मा गुलबदन
35. अंधे तांत्रिक का प्रेत बिल्ला
36. रंग महल के प्रेत
37. प्रेत मण्डली
38. माया मायावी
39. माया नगरी
40. माया मंत्र
36.
37.
38.
39.
40.



Sunday, December 24, 2017

राकेश पाठक

राकेश पाठक - एक परिचय

राकेश पाठक के कई उपन्यास गौरी पाकेट बुक्स,मेरठ से प्रकाशित हुए, बेहतरीन लेखक थे। अनेक उपन्यास छद्म नाम से लिखे, सौ से अधिक। छद्म नाम से लिखे नावलों की विशाल मार्केट थी। छद्म नाम का विवरण पॉकेट बुक्स के असूल  के खिलाफ बात है।
                  राकेश पाठक ने पहले अपने नाम से ही लिखा, बहुत मेहनत से लिखा, प्रकाशक महोदय ने उनकी मेहनत को सराहा। पर उस समय के पाठक जगत ने विमल चटर्जी और कुमार कश्यप को खूब स्वीकार कर रखा था । वेद जी, राज भारती भी सेल में शीर्ष स्थान पर थे। यह सन् 1987-88 की बात है।
                  राकेश जी कई उपन्यास लिखने के बाद जब वह मुकाम न पा सके जिससे लेखक घर-परिवार चला सके, तब प्रकाशक महोदय, जो राकेश की लेखनी के खास कद्रदां थे, उन्होंने प्रस्ताव छद्म नाम से लिखने का रखा । नाम रजिस्टर्ड कराया । राकेश जी लिखने लगे । साथ में यह भी शर्त थी कि कि बीच-बीच में उनके नाम से ' राकेश पाठक ' का भी नावल आता रहेगा । प्रकाशक और लेखक दोनों के बीच बढ़िया तालमेल अंत तक रहा । पर छद्म नाम से लिखे नावल और नाम, दिन दूनी, रात चौगुनी प्रगति पाता गया , राकेश पाठक नाम बची खुची सेल खोता रहा ।
  गौरी पाकेट बुक्स कई साल पहले बन्द हो चुकी है । प्रकाशक महोदय की कुछ साल पहले निधन हो चुका है । राकेश पाठक साहब,जिला मुज़फ़्फ़र नगर ,खतौली कस्बा उ.प्र. के निवासी हैं ।
              कई वर्षों से इस बात की जानकारी नहीं। उम्र साठ के आसपास होनी चाहिए क्योंकि तीस साल पहले वे अपने नाम से छपकर मार्केट में आ चुके थे।   उस समय वे मैच्योर लेखक मे शुमार थे ।

@आबिद रिजवी जी के स्मृति कोष से

Sunday, December 17, 2017

गजाला-प्रथम भारतीय हिंदी जासूसी महिला उपन्यासकार

गजाला करीम लोकप्रिय उपन्यास जगत का एक वह नाम है जिसने कम समय में ही अपनी एक अलग पहचान स्थापित कर ली थी।
     स्वर्गीय वेदप्रकाश शर्मा की इस शिष्या ने बाल्यावस्था में ही जासूसी उपन्यास लेखन का शुभारंभ कर दिया और कम समय में ही प्रसिद्धि प्राप्त कर ली।
स्वयं वेदप्रकाश शर्मा जी ने गजाला जी के बारे में लिखा था, -" यह गर्व की बात है कि भारत की पहली महिला जासूसी उपन्यासकार मेरठ शहर की है। गजाला मुझे अपना गुरु मानती है, मैं इस काबिल नहीं हूँ । जब‌ मैंने उनमें लिखने की प्रतिभा और जज्बा देखा, तो उन्हें लेखन के कुछ गुर बताये थे। उन्होंने अभी तक जितने भी उपन्यास लिखे हैं, उनमें से कुछ मैंने पढे हैं। उनमें कथानक चयन की सलाहियत मौजूद है। दरअसल, जासूसी लेखन वो विधा है, जिस पर हमेशा से ही, खासकर भारत में पुरुषों का एकाधिकार रहा है। गजाला ने यह साबित किया है कि भारत कि महिलाएं भी जासूसी उपन्यास लिख सकती हैं।"
      
   बाल्यावस्था का फायदा प्रकाशकों ने इस तरह से उठाया की गजाला जी की प्रतिभा का इस्तेमाल गलत रूप से किया गया। इनके प्रारंभिक उपन्यासों को किसी और के नाम से प्रकाशित किया गया लेकिन प्रतिभा आखिर कहां तक छुपी रहती।
           कुछ पाठकों को इनके उपन्यासों के नाम पर आपत्ति हो सकती है लेकिन इनके उपन्यासों के नाम भी प्रकाशक महोदय अपने लालच के लिए बदल देते थे।
वेदप्रकाश शर्मा जी ने अपने उपन्यासों में‌ अश्लीलता का हमेशा विरोध किया है और फिर उनकी शिष्या के उपन्यासों में अश्लील कहां हो सकती है। सिर्फ उपन्यासों के शीर्षक जो कुछ उत्तेजक नजर आते हैं वह सिर्फ प्रकाशकों की देन है।
        कुछ विशेष वजह से गजला जी ने उपन्यास जगत से दूरी बना ली।
हमारी गजाला जी से यही प्रार्थना है की वे पुन: लेखन क्षेत्र में सक्रिय हों।
  अगर आप गजाला जी के बारे में जानाना चाहते हैं तो निम्न लिंक से उनकी आत्मकथा डाउनलोड करके पढें।
  अगर आप गजाला जी से संबंधित कोई भी प्रश्न करना चाहते हैं तो ब्लॉग के कमेंट बाॅक्स में लिखें।
गजाला करीम की आत्मकथा यहाँ उपलब्ध है।
क्लिक करें- आत्मकथा
नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक करें।


Thursday, December 7, 2017

प्रथम उपन्यास

लेखक नाम     -                   उपन्यास नाम

अमित खान-              तिलक रोङ का भूत
( करण सक्सेना सीरिज, 1993, सुमन पॉकेट बुक्स)

2. परशुराम शर्मा -        चीखों का संसार

3. गजला -                    तुरूप का पत्ता

4. वेदप्रकाश शर्मा-        दहकते शहर
    अंतिम उपन्यास-        भयंकरा

5. अनिल मोहन -          अनोखी दुल्हन

सुनील शर्मा

सुनील शर्मा के उपन्यास
1. प्यार का सागर
उक्त लेखक के विषय में अगर किसी को कोई भी जानकारी हो तो हमें अवश्य प्रेषित करें।
- 9509583944
Email- sahityadesh@gmail.com

मदन शर्मा

मदन शर्मा के उपन्यास
1. जहरीली ( आशा पॉकेट बुक्स)

उक्त लेखक के विषय में अगर किसी को कोई भी जानकारी हो तो हमें अवश्य प्रेषित करें।
- 9509583944
Email- sahityadesh@gmail.com

सुदर्शन बाली

सुदर्शन बाली के उपन्यास
1. मां- बेटा ( आशा पॉकेट बुक्स)

मीनू वालिया


मीनू वालिया के उपन्यास
1. तलाश
2. बैसाखी
3. जिंदगी
4. मेहंदी
5. तराजू
6. राख और अंगारें
7. संबंध
8. चिता की आग
9. पराई बेटी
10. रानी साहिबा
11. बिदाई
12. रोशनी
13. सुहाग का बटवारा
14. सपने अपने-अपने
15. बेगुनाह
16. सुहाग की छाया
17. भाभी माँ
18. औरत अबला नहीं
19. अधूरा सुहाग
20. कानून के दुश्मन (विजय पॉकेट बुक्स- दिल्ली)

उक्त लेखक के विषय में अगर किसी को कोई भी जानकारी हो तो हमें अवश्य प्रेषित करें।
- 9509583944
Email- sahityadesh@gmail.com

वासुदेव

उपन्यासकार वासुदेव के विषय में अभी तक कोई विशेष जानकारी उपलब्ध नहीं है।
एक उपन्यास से मात्र इनके उपन्यासों की सूची उपलब्ध हुयी है।

वासुदेव के उपन्यास
1. प्रायश्चित
2. सौगंध
3. अभागा
4. नया सवेरा
5. कालिया
6. नमक हराम
7. कुलदीपक
8. अधूरा सुहाग
9. भूल
10. वापसी
11. अबला
12. आंचल की छांव
13. पूजा
14. पुजारी
15. गुनाहगार
16. आरती
17. अभिलाषा
18. तीसरी बहू
19. प्रेम पूजा
20. भाभी की सौगंध
21. देवी माँ
22. तपस्या
23. सपनों की राख
24. रिश्ते नाते
25. सूना आंचल
26. इंसानियत
28. उपहार
29. अधूरी दुल्हन
30. घर संसार

उक्त लेखक के विषय में अगर किसी को कोई भी जानकारी हो तो हमें अवश्य प्रेषित करें।
- 9509583944
Email- sahityadesh@gmail.com

Sunday, December 3, 2017

विजय मल्होत्रा

विजय मल्होत्रा के उपन्यास
1. इंसाफ की सौगंध (विजय पॉकेट बुक्स)

उक्त लेखक के विषय में अगर किसी को कोई भी जानकारी हो तो हमें अवश्य प्रेषित करें।
- 9509583944
Email- sahityadesh@gmail.com