Labels

Friday, June 9, 2017

विनय प्रभाकर

विनय प्रभाकर के उपन्यासों पर थ्रिल, सस्पेंश और इंवेस्टीगेशन का जादूगर शब्द लिखा होता है।
  अपनी उपन्यास में ये स्वयं एक वकील के रूप में उपस्थित होते हैं।
   इनके यहाँ प्रारंभिक उपन्यास सामाजिक थे फिर बाद के साॅशियल थ्रिलर थे। बाद में इन्होंने अपना लेखन बदल कर एक नये पात्र 'नाना पाटेकर' को लेकर आये। नाना पाटेकर सीरिज ने  इनके लेखन को एक नया आयाम दिया।
 
विनय प्रभाकर के उपन्यास
1. सुहागिन का हत्यारा
2. औरत मेरी मुट्ठी में।
3. पैसा ही भगवान
4. कोठी नंबर 10
5. कातिल इक्के
6. कानून का दुश्मन
7. विधवा का इंतकाम
8. हत्यारी बहू
9. राखी मांगे खून
10. कानून का बाप
11. सुहाग का सौदा
12. अंधी अदालत
13. मासूम बेटा
14. पाप की दौलत
15. इंसाफ का फरिश्ता
16. खुदा का बेटा
17. चार बीवियों का पति
18. एक दिन की सुहागिन
19. इंसाफ का खून
20. कानून का खिलाङी
21. सुहागिन का इंसाफ
22. मासूम हत्यारा
23. जुर्म का शहंशाह
24. नर्क का भगवान
25. बेटी और बारूद
26. कोख का लहू
27. एक नंबर का शैतान
28. दस करोङ की हत्या
29. दस दिन की मौत
30. काला वारंट
31. जुर्म की रोटी
32. कफन तेरे सुहाग का
33. दौलत का कफन
34. जुर्म की मेहंदी
35. राखी का हत्यारा
36. 31 जनवरी की रात
37. मरने नहीं दूंगी
38. कातिल कौन
39. बारूद का बेटा
40. मैं जिंदा हूँ
41. क्राइम शाॅप
42. बिंदिया और मौत
43. कानून का रखवाला
44. जुर्म की शतरंज
45. बिंदिया और मौत
46. तीन दिन की दुल्हन
47. मैं विधवा हूँ
48. मांग भरेगी खून से
49. आँखें दो कानून को
50. राखी मांगे खून
51.‌ कानून का जूता
52.
53.
54.
55.
56.

नाना पाटेकर सीरीज
44. मौत आयेगी सात तालों में
45. सूअर का बाल
46. 36 घण्टे की मौत
47. मुर्दे की सुहागिन
48. जुर्म‌ की भट्टी
49. दुश्मनी का ताबूत
50. शेर का बच्चा
51. मुँह तोङ जवाब
52. तू साँ मैं नेवला
53. दस करोङ

No comments:

Post a Comment