Labels

Wednesday, May 17, 2017

ओमप्रकाश शर्मा - जनप्रिय लेखक

जनप्रिय लेखक ओमप्रकाश शर्मा।
ओमप्रकाश दिल्लीकी एक कपङा मिल में मजदूर थे।
 इन्होंने मिल में काम करते हुए अपने लेखन कार्य कोभी जारी रखा।
इनके उपन्यास जासूसी होते हुए भी कोई न कोई संदेश लिए होते थे।
इनके उपन्यासों में सामाजिकता, जासूसी के साथ-साथ देशभक्ति का भी रंग मिलता है।
ओमप्रकाश शर्मा
जन्म- 4.12.1924
मृत्यु- 14.10.1998
ओमप्रकाश शर्मा की साइट पर जाने के लिए यहाँ क्लिक करें। - ओमप्रकाश शर्मा
ओमप्रकाश शर्मा के उपन्यास
1. हवाई जहाज लापता
2. सुंदरवन में षड्यंत्र
3. मकङी की सुरंग- प्रथम भाग
4. मकङी की सुरंग - द्वितीय भाग
5. जगत और चंपा डकैत
6. लखनवी जासूस
7. काल कोठरी
8. एक नवाब- पन्द्रह चोर
9. तीन गायब (समीक्षा पढने के लिए नाम पर क्लिक करें)
10. पांच करोङ का हीरा- जगत सीरिज (दुर्गा पॉकेट बुक्स)


तुलसी पॉकेट बुक्स से प्रकाशित उपन्यास
1. सोना और सागर
2. आधी रात के सौदागर
3. एक रात तीन हत्या
4. रात के अंधेरे में
5. एक जिद्दी लङकी

7 comments:

  1. गुरप्रीत जी, आदरणीय शर्माजी ने कभी विक्रांत को लेकर कोई उपन्यास नहीं लिखा. ये सब नकली हैं. कृपया उनके पेज से विक्रांत सीरीज के उपन्यास हटाए.

    ReplyDelete
  2. On prakash Ji per ek sanklan prakshit hua that.usmen mera bhi ek Lekh hai,avismarneeya.Meri shamen unhi ke ghar guzarti theen.Main aaj bhi us parivar se bahut pyar karta hoon.

    ReplyDelete
  3. On prakash Ji per ek sanklan prakshit hua that.usmen mera bhi ek Lekh hai,avismarneeya.Meri shamen unhi ke ghar guzarti theen.Main aaj bhi us parivar se bahut pyar karta hoon.

    ReplyDelete
    Replies
    1. यहाँ गलती से जनप्रिय लेखक ओमप्रकाश शर्मा और दूसरे लेखक ओमप्रकाश जी की रचनाएँ एक साथ प्रकाशित कर दी गयी। एक बङी भूल थी। इसे जल्द संशोधित कर दिया जायेगा।
      मूल लेखक 'जनप्रिय लेखक ओमप्रकाश शर्मा' थे।
      धन्यवाद
      - साहित्य देश टीम।

      Delete
    2. This comment has been removed by the author.

      Delete
    3. साहित्य देश की जितनी भी सराहना की जाये काम है. जो मनुष्य कार्य करता है केवल उसी से भूल चूक भी होती है. त्रुटियों को सुधार लेना बड़प्पन है. मैं साहित्य देश की टीम को इस कार्य के लिए साधुवाद देता हूँ.
      एक संशोधन और कर लें तो अच्छा हो -
      ओमप्रकाश शर्मा के उपन्यास के स्थान पर ओमप्रकाश शर्मा ने ४५० से अधिक उपन्यास लिखे उनमें से कुछ निम्न हैं :
      लिखें तो उपयुक्त होगा।
      सादर

      Delete
  4. Bahut hi acha likhte the shrma sir,,ha vikrant series ne Jo dusre shrma ji ne likha ...usne gadbad ki

    ReplyDelete