Labels

Thursday, May 11, 2017

कुशवाहा कांत

कुशवाहा कांत विलक्षण प्रतिभा के धनी थे। उन्होंने कम समय में ही उपन्यास जगत में अपनी लेखनी का प्रभाव स्थापित कर दिया था।
जहाँ उन्होंने एक तरफ सामाजिक, शृंगार रस से परिपूर्ण उपन्यास लिखे तो वहीं इन्होंने जासूसी और क्रांतिकारी उपन्यासों का सृजन किया।

कुशवाहा कान्त का
जन्म- 9 दिसम्बर,1918
जन्म भूमि- मिर्जापुर,उत्तर प्रदेश
मृत्यु- 29 फ़रवरी,1952
प्रसिद्ध रचनाएँ- 'लाल रेखा', 'पारस', 'विद्रोही सुभाष', 'आहुति' आदि।
विशेष-  इनकी कृतियाँ 'कुँवर कान्ता प्रसाद' के नाम से प्रकाशित होती थीं।
-  इन्होंने 'महाकवि मोची' नाम से कई हास्य नाटकों तथा कविताओं का भी सृजन किया।
- मिर्जापुर,उत्तर प्रदेशके 'महुवरिया' नामक मोहल्ले में जन्में कुशवाहा कान्त ने नौवीं कक्षा में ही ‘खून का प्यासा’ नामक जासूसी उपन्यास लिखा था।

कुशवाहा कांत जी द्वारा संपादित पत्रिकाएँ

1. चिनगारी
2. नागिन ( मासिक पत्रिका)
3. बिजली

.29 फ़रवरी,1952 को कबीर चौरा के पास गुण्डों ने एक आक्रमण किया, जिसमें कुशवाहा कान्त का निधन हो गया।

कुशवाहा कांत के कुल 35 उपन्यास

1. लाल रेखा √
2. पपिहरा (पपरिहा)
3. परदेसी (प्रथम भाग)
4. परदेशी द्वितीय भाग) (पराया)
5. पारस
6. जंजीर √
7. मदभरे नयना
8. नागिन
9. विद्रोह सुभाष √
10. उसके साजन
11. जवानी के दिन
12. हमारी गलियां
13. खून का प्यासा
14. दानव देश
15. रक्त मंदिर
16. गोल निशान
17. उङते-उङते
18. पराजिता
19. काला भूत
20. कैसे कहूँ
21. लाल किले की ओर
22. निर्मोही √
23. लवंग
24. नीलम √
25. आहूति
26. बसेरा
27. इशारा
28. जलन
29. कुंकुम
30. पागल
31. मंजिल
32. भंवरा
33. चूङियाँ
34. अकेला √
35. अपना पराया
√ मेरे पास उपलब्ध उपन्यास ।
 
कुशवाहा कांत के नाम पर प्रकाशित नकली उपन्यास
1. आहट
2. काजल
3. कलंक
4. कटे पंख
5. उपासना
संदर्भ:- उपर्युक्त समस्त जानकारी कुशवाहा कांत के छोटे भाई उपन्यासकार जयंत कुशवाहा द्वारा एक उपन्यास में प्रकाशित की गयी थी।

No comments:

Post a Comment